28 मार्च 2021 के टॉप 08 मुख्य अंतरराष्ट्रीय समाचार हिंदी में। इंडोनेशिया में चर्च पर आत्मघाती हमला। कनाडा में सिरफिरे ने किया चाकू से हमला।

Suicide bombing outside Catholic church in Indonesia - Image by Pixabay
Suicide bombing outside Catholic church in Indonesia - Image by Pixabay

रविवार को इंडोनेशिया के मकस्सर शहर में एक कैथोलिक चर्च के बाहर एक आत्मघाती हमलावर ने खुद को बम विस्फोट करके उड़ा लिया। ‘ईस्टर होली वीक’ के पहले दिन हुए इस ब्लास्ट में अब तक 2 लोगों की मौत जबकि 14 के घायल होने का समाचार है। इस हमले के पीछे किस संगठन का हाथ है यह अभी तक सामने नहीं आया है।

शनिवार को कनाडा की एक लाइब्रेरी में एक सिरफिरे ने लाइब्रेरी में लोगों को बंधक बनाकर चाकू से हमला कर दिया। इस हमले में 1 व्यक्ति की मृत्यु हो गयी है और 6 से अधिक लोग घायल हो गए है। हमलावर को गिरफ्तार कर लिया गया है और घायलों को अस्पताल में भर्ती किया गया है।

ब्रिटेन ने शरणार्थी नियमों में संशोधन किया है। इन नए नियमों के अनुसार ‘अवैध’ लोगों को त्वरित प्रत्यर्पित किया जा सकेगा।

बांग्लादेश सरकार 1971 के भारतीय सेना के शहीदों को सम्मान देने के लिए उनके लिए विशेष मेमोरियल का निर्माण करेगी।

भारत और बांग्लादेश ने ढाका में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना की मौजूदगी में आपदा प्रबंधन आईसीटी उपकरण और खेल जैसे क्षेत्रों में पांच महत्वपूर्ण समझौतों ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए।

म्यांमार में सशस्‍त्र सेना दिवस के मौके पर जब चीफ सीनियर जनरल मिन आंग ह्लाइंग परेड की सलामी ले रहे थे तभी सैनिक सरकार के खिलाफ विरोध-प्रदर्शनों कर रहे 114 प्रदर्शनकारी के ऊपर सुरक्षाबलों ने गोली चला कर मार दिए गए। दुनिया भर के बारह देशों के रक्षा प्रमुखों ने म्यांमार में हुए इस नरसंहार की कड़ी निंदा की है।

कल प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और बंगलादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए ढाका और पश्चिम बंगाल में न्यू जलपाइगुड़ी के बीच नई यात्री रेलगाड़ी “मिताली एक्सप्रेस” का उद्घाटन किया। ढाका और कोलकाता के बीच मैत्री एक्सप्रेस और खुलना तथा कोलकाता के बीच बंधन एक्सप्रेस के बाद दोनों देशों के बीच यह तीसरी रेलगाड़ी है।

भारत में बने कोविड-19 के दो लाख डोज़ की पहली खेप आज डेनमार्क (Danmark या Kongeriget Danmark) पहुंच गई है । संयुक्‍त राष्‍ट्र शांति कार्यों के उप-महासचिव जीन-पियरे लैक्रोइक्‍स (Jean-Pierre Lacroix) ने इसके लिए भारत के प्रति आभार व्‍यक्‍त करते हुए कहा कि यह उदार सहायता शांति सेना के कर्मियों के लिए भेजी गई है जिससे वे लोगों की जान बचाने का काम और सुरक्षित ढंग से कर सकेंगे।

We use cookies in order to give you the best possible experience on our website. By continuing to use this site, you agree to our use of cookies.
Accept