फैक्ट चेक: बिहार के ऋतुराज ने किया Google को हैक, करोड़ो का पैकेज देकर गूगल ने नौकरी पर रखा

इस लड़के का जादू गूगल पर चला हो या न हो पर इस फेक न्यूज़ का जादू पुरे देश में जरूर चल गया है।

Google Bug Bounty Program
Google Bug Bounty Program
Last updated:

Google पर हम केवल सर्च ही नहीं करते बल्कि अब Google पुरे ग्रह की सबसे बड़ी जरुरत बन चुका है। इंटरनेट चलाते समय बिना Google को यूज़ करे हम कोई काम करने की सोच भी सकते। पर क्या होगा अगर Google को ही कोई हैक कर ले।

सुनने में यह असंभव भले ही लगता हो पर यह कर दिखाया है एक भारतीय लड़के ने। और इस लड़के ने Google पर ऐसा जादू किया की Google ने उसे करोड़ो की सैलरी देकर काम पर भी रख लिया है।

आपने ऐसी खबर बहुत सारी वेबसाईट्स पर पढ़ी होंगी।

और भी क्या पढ़ा होगा, आइये हम बताते है –

svg%3E
  1. इस लड़के को 31000 डॉलर या 23 लाख का इनाम मिला है।
  2. इस लड़के को Google ने तुरंत अमेरिका बुला लिया है और 3.66 करोड़ रुपये के पैकेज पर नौकरी में भी रख लिया है।
  3. इस लड़के को Google ने “Google हॉल आफ फेम अवार्ड” से सम्मानित भी किया है।

पर सच्चाई यह बिलकुल भी नहीं है।

तो आइये हम आपको सच्चाई बताते है कि क्या हुआ।

कहानी है बिहार में स्थित बेगूसराय के एक लड़के ऋतुराज चौधरी की। वो IIIT मणिपुर से B.Tech सेकेंड ईयर की पढ़ाई पूरी कर रहा है और एथिकल हैकिंग में एक्सपर्ट है। ऋतुराज ने हाल ही में Google में एक बग ढूंढ निकाला था। बग का मतलब वैसे तो कीड़ा होता है पर टेक्नोलॉजी में इसका मतलब “कोडिंग में कोई गलती” होता है।

तो ऋतुराज ने Google की वेबसाइट के कोड में किसी गलती को ढूंढ निकाला था। और इसके लिए Google ने ऋतुराज को अपने बग हंटर्स प्रोग्राम की एक्टिव रिसर्चर की लिस्ट में भी शामिल किया है।

तो पूरी सच्चाई जानने के लिए हमने Google की ऑफिसियल बग हंटर्स प्रोग्राम की वेबसाइट चेक की।

Google की बग हंटर्स प्रोग्राम की जनवरी 2022 की एक्टिव रिसर्चर की लिस्ट में तीन और भारतीयों के नाम भी शामिल है, जिन्हें मीडिया ने अपनी रिपोर्ट्स में नहीं बताया है। ऋतुराज भी जनवरी 2022 में बग हंटर्स प्रोग्राम की एक्टिव रिसर्चर की लिस्ट में शामिल हुए थे।

क्या सचमुच ऋतुराज को “Google हॉल आफ फेम” अवार्ड मिला है?

हमने “Google हॉल आफ फेम अवार्ड” के बारे में भी जानने की कोशिश की पर ऐसा हमें कोई भी अवार्ड नहीं मिला। बस Google अपने बग हंटर्स को एक “Honorable mentions” की लिस्ट में जगह देता है और शायद इसी को सभी वेबसाइटस “गूगल हॉल आफ फेम अवार्ड” बता रही है।

अब बात करते है अवार्ड्स की। तो हमने ऋतुराज की “Google बग हंटर्स प्रोग्राम” की प्रोफाइल चेक की। उसमें उन्हें दो अवार्ड्स मिले है ऐसा बताया गया है पर इन अवार्ड्स के बारे में अधिक जानकारी नहीं दी गयी है। ऋतुराज अभी बग हंटिंग में P2 लेवल तक पहुँचे है और उन्हें कोई धनराशि तभी मिलेगी जब वे P0 लेवल तक पहुँच जाएँगे।

अब जानिए ऋतुराज और Google के हैक होने से संबंधित सच्चाई।

  • ऋतुराज ने Google को हैक नहीं किया था बल्कि एक बग को ढूंढ निकाला था।
  • Google ने ऋतुराज को कोई धनराशि देने का अभी तक कोई ऐलान नहीं किया है।
  • Google ने ऋतुराज को अमेरिका बुलाकर कोई करोड़ो के पैकेज वाली नौकरी ऑफर नहीं की है।
  • ऋतुराज IIT नहीं बल्कि IIIT मणिपुर में पढ़ रहे है।
  • “Google हॉल आफ फेम अवार्ड” जैसा कोई अवार्ड नहीं होता है। बस Google अपने बग हंटर्स को एक “Honorable mentions” की लिस्ट में जगह देता है।

बग कोई भी ढूंढ सकता है और हज़ारो लोग Google की बग हंटर्स “Honorable mentions” की लिस्ट में शामिल है। यह सब आप भी कर सकते है।

तो अब आप सारी सच्चाई को जान गए होंगे की किस प्रकार से एक वायरल न्यूज़ ने पुरे देश को भ्रमित किया।

We use cookies in order to give you the best possible experience on our website. By continuing to use this site, you agree to our use of cookies.
Accept