क्यों किया गूगल ने एयरटेल में $1 बिलियन डॉलर का इन्वेस्टमेंट?

केवल इन्वेस्टमेंट या भारतीय टेलीकॉम सेक्टर में किंगमेकर बनने की ख्वाहिश?

Google Invests $1 billion in Airtel
Google Invests $1 billion in Airtel
Last updated:

गूगल ने $10 बिलियन डॉलर के अपने इंडिया डिजिटाइजेशन फण्ड के तहत एयरटेल में $1 बिलियन डॉलर तक का इन्वेस्टमेंट करने का फैसला किया है। इससे जिओ की वजह से मुसीबत का सामना कर रहे एयरटेल को काफी सहायता मिलेगी। गूगल ने बताया है कि वे करीब $700 मिलियन डॉलर इन्वेस्ट करके एयरटेल में 1.28% के हिस्सेदार बन जाएंगे।

अभी एयरटेल के पास करीब 30 करोड़ ग्राहक है और गूगल ने उम्मीद जताई है कि इस इन्वेस्टमेंट के बाद वे आने वाले वर्षों में करीब इतने ही और ग्राहक जोड़ने में कामयाब रहेंगे।

दोनों कम्पनियाँ ज्यादा से ज्यादा एंड्राइड फ़ोन का प्रयोग करने वाले कंस्यूमर्स को अपने साथ जोड़ने की कोशिश करेंगी। वही दोनों दूसरी स्मार्टफोन बनाने वाली कंपनियों के साथ कम कीमत वाले स्मार्टफोन बनाने में भी सहयोग करेंगी।

अब गूगल एयरटेल की डूबती नैया को पार लगाने के दौरान भारतीय टेलीकॉम सेक्टर में भी अपनी पकड़ को मजबूत करने में लगा है। 2020 में गूगल ने भारत के सबसे बड़े टेलीकॉम नेटवर्क जिओ में भी $4.5 बिलियन डॉलर का इन्वेस्टमेंट किया था। इससे जिओ में गूगल की हिस्सेदारी 7.7% हो गयी थी। फेसबुक और करीब एक दर्ज़न कंपनियों ने भी गूगल के साथ जिओ में निवेश किया था।

गूगल इंटरनेट सर्च इंजिन, वीडियो और एडवरटाइजिंग के क्षेत्र में बादशाह है और अब वो सभी प्रतिद्वंदी टेलीकॉम कंपनियों में निवेश करके भारतीय टेलीकॉम सेक्टर में भी किंगमेकर बनने की इच्छा रखता है। अगर ऐसा हो जाता है तो गूगल अपने मनी पावर की मदद से एक दिन जिओ और एयरटेल को अपनी मुट्ठी में कर सकता है और भारतीय टेलीकॉम सेक्टर में निवेश के जरिए मोनोपोली बनाने में कामयाब हो सकता है।

We use cookies in order to give you the best possible experience on our website. By continuing to use this site, you agree to our use of cookies.
Accept